Is India Developing...?

Is India Developing...?

नमस्कार मित्रों!!

आज जो भी मैं कहने जा रहा हूँ हो सकता है कि, वो आप सब के मन को विचलित कर दे। कुछ लोग तो शायद मेरे बारे मैं गलत धारणा ही बना लेंगे पर दोस्तों, ध्यान से पढ़ना हो सकता है कि, मैं गलत हूँ पर जो आँकड़े मैं पेश करने जा रहा हूँ वो गलत नहीं हैं।

सबसे पहले श्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी जी को बधाई देना चाहता हूँ कि, उन्होंने इतने काम समय में इतनी अधिक उपलब्धियाँ प्राप्त कर ली हैं।

Railway में बहुत सी सेवाएँ शुरू हो गई हैं। अभी कुछ दिनों पहले जब मैं Train में सफर कर रहा था तो देखा कि, साफ सफाई अच्छी है, खाना भी सही है। Railway में अब Customer Care सेवा भी Start हो गई है। यह जनता से जुडने का और उनकी शिकायतें जानने का बहुत अच्छा Option है। और भी कई उपलब्धियाँ है जैसे पुलिस अब पहले से अधिक चौकन्ना हो गई है। 100 नम्बर जल्दी लग जाता है और पुलिस भी आ जाती है। जन-धन योजना के तहत सभी के खाते भी खुल गए है, सभी को Subsidy भी सही Time से मिल जाती है। कई शहरों में बड़े-बड़े अस्पताल खुल गए हैं, 108 एम्बुलेंस की सुविधा हो गई है, जनता की शिकायतों के लिए CM/PM Help Line भी शुरू हो चुकी है। Future Plan भी अच्छे लग रहे हैं Metro ट्रेन सेवा बहुत सी Cities में आने वाली है, Bullet Train भी आ ही रही है। ऐसा प्रतीत होता है कि, सच में अच्छे दिन आ गए हैं।

र जैसे ही मेरा ध्यान दूसरी ओर जाता है तो सब गड़बड़ नजर आता है...


Railway में Customer Care सुविधा तो है लेकिन जब कोई नम्बर लगाएगा तो कोई नहीं उठाएगा। साफ-सफाई तो है पर General डिब्बे की हालत बहुत गम्भीर है। खाना तो है पर इतना Costly होने के बाद भी उस में कुछ Taste नहीं है।
जैसे बहुत से School खुल जाने से निरक्षरता कम हो रही है वैसे ही पुलिस बढ़ जाने से अपराध कम क्यों नहीं हो रहे हैं? तो ऐसे 100 नम्बर घुमाने का क्या फायदा? और अस्पतालों के बढ़ जाने से बीमारियाँ कम नहीं हो रही हैं, 108 समय पर नहीं पहुँचती है, सरकारी अस्पतालों का तो हाल सबसे बुरा है। 

मोदी जी ने खुद Twitter पर वादा किया था कि, यदि मेरी सरकार सत्ता में आती है तो केवल 3 महीने में ही विदेश से काला धन भारत आ जाएगा। जन-धन योजना के लिए खाते भी खुल गए पर काले धन का कुछ पता नहीं खैर, अब तो 2 साल होने वाले हैं, अब तो बात ही क्या करें?


आप कभी Cm Help Line लगा कर देखना कोई नहीं उठाएगा, Vyapam का Customer Care Lagate Raho कोई नहीं उठाएगा। काश कुछ लोग Phone उठाने के लिए भी लगा लिए होते तो अच्छा रहता। इस देश मे Basic सुविधाएँ तो सही से मिल नहीं रही तो Bullet Train का क्या करेंगे? Congress वाले Bjp से 2 साल के काम का हिसाब माँग रहे हैं और Bjp वाले Congress से 60 साल का, एक दूसरे को दोषी ठहराने में लगे है फिर देश का चाहे जो हो। अब आप ही सोचिए कि, जिस देश में General डिब्बे में लोगों के लिए बैठने कि जगह नहीं होती, लोगों को Train के बाहर लटक कर इतनी Risk के साथ सफर करना पड़ता है, उस देश में General डिब्बे बढ़ाने चाहिए या Bullet Train Launch करनी चाहिए।

Problem तो Media के साथ भी है कि, ये सच नहीं दिखाते, खैर, हमें इस बिकी हुई Media से कोई उम्मीद नहीं है इसलिए आप से ही उम्मीद करते हैं कि, आप हमारे साथ में आएँगे और हमारी इस आवाज़ को आगे तक पहुँचाओगे।

धन्यवाद!!

Previous
Next Post »
loading...