A Lesson from Amitabh Bachchan's Life

अमिताभ बच्चन के जीवन की एक महत्वपूर्ण और प्रेरणादायक घटना...

हम सब की Life में एक ऐसा Time आता है जब हमें समझ नहीं आता कि, क्या करें?
एक ऐसा ही मोड़ भारतीय सिनेमा के सबसे कामयाब अभिनेता अमिताभ बच्चन जी की Life में भी आया। उस समय उनकी उम्र होगी करीब 20-22 साल। बच्चन साहब पढ़ाई पूरी करके Degree लेकर जगह-जगह नौकरी ढूँढ रहे थे। बहुत से Interview भी दिए पर कोई नौकरी ना मिली। एक महीने तक दर-दर की ठोकरें खाने के बाद अब वे परेशान हो गए।

एक दिन जब Situation Limit के बाहर हो गई तब अपने पिता श्री हरिवंश राय बच्चन के पास गए। उनके कमरे का दरवाज़ा थोड़ा खुला हुआ था, Table पर बैठ कर कुछ लिख ही रहे थे कि, जोर से अमिताभ जी की आवाज़ आई। “बाबू जी, आप ने मुझे पैदा ही क्यों किया? क्या यही दिन देखने के लिए?” पिता जी अचानक बेटे को ऐसा करते देख थोड़ा डर गए। कुछ देर बाद बिना कुछ बोले अपने कमरे में चले गए। बोलते भी क्या लेखक थे ना...

अगले दिन अमिताभ देर से उठे, जब आँख खुली तब उनके कमरे की Table पर एक पत्र रखा हुआ थ। अमिताभ साहब ने उसे पढ़ना शुरू किया।
"बेटा, मैं बड़ा शर्मिंदा हूँ क्योंकि, कल रात जो तुमने मुझसे सवाल पूछा, मेरे पास उसका जवाब नहीं है।और जवाब इसलिए नहीं है क्योंकि मैंने यह सवाल अपने पिता जी से नहीं पूछा और मेरे पिता जी ने भी उनके पिता जी से नहीं पूछा। ये तो दुनिया की रीत है कि, बाप अपने बेटे को पूछ कर पैदा नहीं करता, पर तुम दुनिया में नई रीत लिखना और अपने बेटे को उससे पूछ कर पैदा करना..."
पत्र पढ़ कर अमिताभ जी की आँखों में आँसू आ गए क्योंकि, उन्हें ये समझ आ गया था कि, इसमें उनके पिता की कोई गलती नहीं है।

आशा करता हूँ कि, आपको भी श्री हरिवंश राय जी का ये जवाब जरूर समझ आ गया होगा। हम अपनी गलत Situation का जिम्मेदार किसी और को बड़ी ही सरलता से ठहरा देते हैं। 
Bill Gates ने भी कहा है कि, आप गरीब घर में पैदा हुए इसमें आपकी कोई गलती नहीं, पर अगर आप गरीब घर में मरोगे तो ये आपकी बहुत बड़ी गलती है क्योंकि, आज आप जो भी हो उसका जिम्मेदार आप किसी और को नहीं ठहरा नहीं सकते। आप अपनी ज़िंदगी में लिए हुए Decision से ही अपना Future तय करते हैं।

लेख अच्छा लगने पर Share और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास भी कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख को आपके नाम के साथ भन्नाट.कॉम पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप wordparking@gmail.comपर भेजें, साथ ही twitter पर फॉलो करें Twitter@bhannaat

धन्यवाद

Previous
Next Post »
loading...