Hindi and English mein Sant Kabeer Dohe-2

संत कबीर दास जी के दोहे- हिन्दी एवं अंग्रेजी अर्थ सहित... भाग-2...

Sant Kabeer Das ji ke Dohe...
1- जब गुण को ग्राहक मिले, तब गुण लाख बिकाई,
जब गुण को ग्राहक नहीं, तब कौड़ी बदले जाई।

हिन्दी अर्थ: कबीर कहते हैं कि, जब गुण को परखने वाला ग्राहक मिल जाता है तो गुण की कीमत होती है। पर जब ऐसा ग्राहक नहीं मिलता, तब गुण कौड़ी के भाव चला जाता है।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir says that, right client gets the right thing it gives importance to that thing but if there is no right client for right thing. It gets wasted.


2- कबीर कहा गरबियो, काल गहे कर केस,
ना जाने कहाँ मारिसी, कै घर कै परदेस।

हिन्दी अर्थ: कबीर कहते हैं कि, हे मानव! तू क्या गर्व करता है? काल अपने हाथों में तेरे केश पकड़े हुए है। मालूम नहीं, वह घर या परदेश में, कहाँ पर तुझे मार डाले।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir says, don't Feel proud of Anything because last day of your life can come to you anytime it doesn't matter Where you Are, at home or in abroad.


3- हाड़ जलै ज्यूँ लाकड़ी, केस जलै ज्यूँ घास,
सब तन जलता देखि करि, भया कबीर उदास।

हिन्दी अर्थ: यह नश्वर मानव देह अंत समय में लकड़ी की तरह जलती है और केश घास की तरह जल उठते हैं। सम्पूर्ण शरीर को इस तरह जलता देख, इस अंत पर कबीर का मन उदासी से भर जाता है।
अंग्रेजी अर्थ: The mortal Human body burns like a piece of wood and hair like the piece of grass. After watching entire body burning, Kabir's heart filled with sadness.


4- मन हीं मनोरथ छांड़ी दे, तेरा किया न होई,
पानी में घिव निकसे, तो रूखा खाए न कोई।

हिन्दी अर्थ: मनुष्य मात्र को समझाते हुए कबीर कहते हैं कि, मन की इच्छाएँ छोड़ दो, उन्हें तुम अपने बूते पर पूर्ण नहीं कर सकते। यदि पानी से घी निकल आए, तो रूखी रोटी कोई न खाएगा।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir explains that, one should leave the desire of the mind. If the melted butter would come out of the water, nobody needed to eat dry bread.


5- झूठे सुख को सुख कहे, मानत है मन मोद
खलक चबैना काल का, कुछ मुंह में कुछ गोद

हिन्दी अर्थ: कबीर कहते हैं कि, अरे जीव! तू झूठे सुख को सुख कहता है और मन में प्रसन्न होता है? देख यह सारा संसार मृत्यु के लिए उस भोजन के समान है, जो कुछ तो उसके मुँह में है और कुछ गोद में खाने के लिए रखा है।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir says, Hey creatures! You believe in false happiness and pleasure comes to you. Death is much similar to the food which is few inside you and few in your lap.


6- ऐसा कोई ना मिले, हमको दे उपदेस,
भौ सागर में डूबता, कर गहि काढै केस।

हिन्दी अर्थ: कबीर संसारी जनों के लिए दुखित होते हुए कहते हैं कि, इन्हें कोई ऐसा पथप्रदर्शक न मिला जो उपदेश देता और संसार सागर में डूबते हुए इन प्राणियों को अपने हाथों से केश पकड़ कर निकाल लेता।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir feels bad for the people and says that, people doesn't get a guide whose reading can save creatures from his hands.


7- संत ना छाडै संतई, जो कोटिक मिले असंत,
चन्दन भुवंगा बैठिया, तऊ सीतलता न तजंत।

हिन्दी अर्थ: सज्जन को चाहे करोड़ों दुष्ट पुरुष मिलें फिर भी वह अपने भले स्वभाव को नहीं छोड़ता. चन्दन के पेड़ से साँप लिपटे रहते हैं, पर वह अपनी शीतलता नहीं छोड़ता।
अंग्रेजी अर्थ: Yet sage found millions of wicked people, even he behaves Nicely as sandalwood tree doesn't lose its coldness even many snakes cling to it.


8- कबीर तन पंछी भया, जहाँ मन तहाँ उड़ी जाइ,
जो जैसी संगती कर, सो तैसा ही फल पाइ।

हिन्दी अर्थ: कबीर कहते हैं कि, संसारी व्यक्ति का शरीर पक्षी बन गया है और जहाँ उसका मन होता है, शरीर उड़कर वहीं पहुँच जाता है। सच है कि, जो जैसा साथ करता है, वह वैसा ही फल पाता है।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir says that, people had become the bird's body. Wherever Good minds go, Good body follows it. But the truth is that as he so, he shell reap.


9- तन को जोगी सब करें, मन को बिरला कोई,
सब सिद्धि सहजे पाइए, जे मन जोगी होइ।

हिन्दी अर्थ: शरीर में भगवे वस्त्र धारण करना सरल है, पर मन को योगी बनाना बिरले व्यक्तियों का ही काम है, य़दि मन योगी हो जाए तो सारी सिद्धियाँ सहज ही प्राप्त हो जाती हैं।
अंग्रेजी अर्थ: To wear hermit's clothes is very easy but to behave like him its very Difficult. But if your mind and heart have like hermit, one doesn't need hermit's clothes.


10- कबीर सो धन संचे, जो आगे को होय,
सीस चढ़ाए पोटली, ले जात न देख्यो कोय।

हिन्दी अर्थ: कबीर कहते हैं कि, उस धन को इकट्ठा करो जो भविष्य में काम आए। सर पर धन की गठरी बाँध कर ले जाते तो किसी को नहीं देखा।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir says that, gather funds which will be useful for future. Nobody take assets to the heaven.


11- माया मुई न मन मुआ, मरी मरी गया सरीर,
आसा त्रिसना न मुई, यों कही गए कबीर।

हिन्दी अर्थ: कबीर कहते हैं कि, संसार में रहते हुए न माया मरती है न मन। शरीर न जाने कितनी बार मर चुका पर मनुष्य की आशा और तृष्णा कभी नहीं मरती, कबीर ऐसा कई बार कह चुके हैं।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir says that, many things are tempting your mind. Body may die but temptation and illusion never dies.


12- जो उग्या सो अन्तबै, फूल्या सो कुमलाहीं।
जो चिनिया सो ढही पड़े, जो आया सो जाहीं।

हिन्दी अर्थ: इस संसार का नियम यही है कि, जो उदय हुआ है, वह अस्त होगा। जो विकसित हुआ है वह मुरझा जाएगा। जो चिना गया है वह गिर पड़ेगा और जो आया है वह जाएगा।
अंग्रेजी अर्थ: It is the rule of the world that which has risen shell set. Which has developed shall be shrink, which is Build that shall fall and who has come shall go.


13- जब मैं था तब हरी नहीं, अब हरी है मैं नाही,
सब अँधियारा मिट गया, दीपक देखा माही।

हिन्दी अर्थ: जब मैं अपने अहंकार में डूबा था, तब प्रभु को न देख पाता था। लेकिन जब गुरु ने ज्ञान का दीपक मेरे भीतर प्रकाशित किया तब अज्ञान का सब अन्धकार मिट गया। ज्ञान की ज्योति से अहंकार जाता रहा और ज्ञान के आलोक में प्रभु को पाया।
अंग्रेजी अर्थ: When I was in my ego I could not see God but when the master lit the lamp of knowledge, darkness disappeared. The light of the knowledge makes the ego die and I found the GOD.


14- कबीर सुता क्या करे, जागी न जपे मुरारी,
एक दिन तू भी सोवेगा, लम्बे पाँव पसारी।

हिन्दी अर्थ: कबीर कहते हैं कि, अज्ञान की नींद में सोए क्यों रहते हो? ज्ञान की जागृति को हासिल कर प्रभु का नाम लो, सजग होकर प्रभु का ध्यान करो, वह दिन दूर नहीं जब तुम्हें गहन निद्रा में सो ही जाना है। जब तक जाग सकते हो जागते क्यों नहीं? प्रभु का नाम स्मरण क्यों नहीं करते?
अंग्रेजी अर्थ: Kabir says, why do you sleep in the ignorance of knowledge. Achieve the god by concentration and knowledge. Your last date is not too far. Awake into until you awake? Why don't you remember the name of God?


15- आछे/पाछे दिन पाछे गए, हरी से किया न हेत,
अब पछताए होत क्या, चिड़िया चुग गई खेत।

हिन्दी अर्थ: देखते ही देखते सब भले दिन, अच्छा समय बीतता चला गया। तुमने प्रभु से लौ नहीं लगाई, प्यार नहीं किया। तो अब समय बीत जाने पर पछताने से क्या मिलेगा? पहले जागरूक न थे, ठीक उसी तरह जैसे कोई किसान अपने खेत की रखवाली ही न करे और देखते ही देखते पंछी उसकी फसल बर्बाद कर जाएँ।
अंग्रेजी अर्थ: In front of your eyes Good days are gone but you didn't remember the name of god. But there is no use of crying over the split Milk.


16- रात गँवाई सोय के, दिवस गँवाया खाय,
हीरा जन्म अमोल सा, कोड़ी बदले जाय।

हिन्दी अर्थ: रात नींद में नष्ट कर दी– सोते रहे, दिन में भोजन से फुर्सत नहीं मिली यह मनुष्य जन्म हीरे के सामान बहुमूल्य था जिसे तुमने व्यर्थ कर दिया– कुछ सार्थक किया नहीं तो जीवन का क्या मूल्य बचा? एक कौड़ी।।।
अंग्रेजी अर्थ: You have wasted whole on Sleeping, day on having food. This life is precious as Diamond. If you do not make the most of it, then what is the value of life? A clam-shell.


17- पानी केरा बुदबुदा, अस मानुस की जात,
एक दिना छिप जाएगा, ज्यों तारा परभात।

हिन्दी अर्थ: कबीर का कथन है कि, जैसे पानी के बुलबुले होते हैं, इसी प्रकार मनुष्य का शरीर क्षणभंगुर है। जैसे प्रभात होते ही तारे छिप जाते हैं, वैसे ही ये देह भी एक दिन नष्ट हो जाएगी।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir's statement that life of man is like bubble of water it is much similar to stars which stops twinkling after a morning, just like that morning human body can be destroyed anytime.


लेख अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास भी कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख को आपके नाम के साथ भन्नाट.कॉम पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप Wordparking@Gmail.Com पर भेजें, साथ ही Twitter पर फॉलो करें Twitter@Bhannaat.

।।।धन्यवाद।।।

Previous
Next Post »

3 comments

Write comments
Jamshed Azmi
AUTHOR
June 30, 2016 at 11:43 PM delete

संत कबीरदास के दोहे मुुझे हमेशा प्रेरणा देतेे हैं। हा‍लांकि मुुझे ज्‍यादा तो याद नहीं पर जो याद हैं वह अक्‍सर मेरी ज़ुबान पर आ जाते हैंैं।

Reply
avatar
Jamshed Azmi
AUTHOR
June 30, 2016 at 11:43 PM delete

संत कबीरदास के दोहे मुुझे हमेशा प्रेरणा देतेे हैं। हा‍लांकि मुुझे ज्‍यादा तो याद नहीं पर जो याद हैं वह अक्‍सर मेरी ज़ुबान पर आ जाते हैंैं।

Reply
avatar
loading...