Sant Kabeer Dohe In Hindi and English

संत कबीर दास जी के दोहे- हिन्दी एवं अंग्रेजी अर्थ सहित... भाग-1...


1- बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय,
जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।

हिन्दी अर्थ: जब मैं इस संसार में बुराई खोजने चला तो मुझे कोई बुरा न मिला। जब मैंने अपने मन में झाँक कर देखा तो पाया कि, मुझसे बुरा कोई नहीं है।
अंग्रेजी अर्थ: When I want to find the evil in this world, so I did not find anyone. When I peeped in my own heart, I found my heart is full of evil.

2- दुर्लभ मानुष जन्म है, देह न बारम्बार,
तरुवर ज्यों पत्ता झड़े, बहुरि न लागे डार।

हिन्दी अर्थ: इस संसार में मनुष्य का जन्म मुश्किल से मिलता है। यह मानव शरीर उसी तरह बार-बार नहीं मिलता जैसे वृक्ष से पत्ता झड़ जाए तो, दोबारा डाल पर नहीं लगता।
अंग्रेजी अर्थ: Life of person is hard, Human life gets repeated again as a leaf falls from the tree, doesn't grow again on same branch.

3- धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय,
माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय।

हिन्दी अर्थ: मन में धीरज रखने से सब कुछ होता है। अगर कोई माली किसी पेड़ को सौ घड़े पानी से सींचने लगे तब भी फल तो ऋतु आने पर ही लगेगा।
अंग्रेजी अर्थ: Everything Happens by keeping patience in heart. If a gardener started watering a tree with hundred barrels of water  fruits Always comes on there proper seasons and times.

4- पोथी पढ़ि-पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय,
ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।

हिन्दी अर्थ: बड़ी-बड़ी पुस्तकें पढ़ कर संसार में कितने ही लोग मृत्यु के द्वार पहुँच गए, पर सभी विद्वान न हो सके। कबीर मानते हैं कि यदि कोई प्रेम या प्यार के केवल ढाई अक्षर ही अच्छी तरह पढ़ ले, अर्थात् प्यार का वास्तविक रूप पहचान ले, तो वो पंडित कहलाता है।
अंग्रेजी अर्थ: People become bookworm by reading books but none of them reached up the knowledge. If one started learning The power of Love and peace , he will surely know the reality and reached up to the enlightenment.

5- साधु ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय,
सार-सार को गहि रहै, थोथा देई उड़ाय।

हिन्दी अर्थ: इस संसार में ऐसे सज्जनों की जरूरत है, जैसे-अनाज साफ़ करने वाला सूप होता है। जो सार्थक को बचा लेंगे और निरर्थक को उड़ा देंगे।
अंग्रेजी अर्थ: The world needs such gentlemen as grain cleaner clears grains which saves meaningful material and blows up the waste.

6- तिनका कबहुँ ना निन्दिये, जो पाँवन तर होय,
कबहुँ उड़ी आँखिन पड़े, तो पीर घनेरी होय।

हिन्दी अर्थ: कबीर कहते हैं कि, एक छोटे से तिनके की भी कभी निंदा न करो, जो तुम्हारे पाँवों के नीचे दब जाता है, यदि कभी वह तिनका उड़कर आँख में आ गिरे तो कितनी गहरी पीड़ा होती है। 
अंग्रेजी अर्थ: Kabir says that, We should never underestimate the straw which is ignore by people. If it flew up to eyes it gives much pain and Hurts us.

7- माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर,
कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर।

हिन्दी अर्थ: कोई व्यक्ति लम्बे समय तक हाथ में लेकर मोती की माला तो घुमाता है, पर उसके मन का भाव नहीं बदलता, उसके मन की हलचल शांत नहीं होती। कबीर की ऐसे व्यक्ति को सलाह है कि, हाथ की इस माला को फेरना छोड़ कर मन के मोतियों को बदलो या फेरो।
अंग्रेजी अर्थ: Its been Long time people have been reading Pearls, but still not getting peace, Kabir Das suggest we should stop reading pearls and start reading the pearls Inside your Heart.

8- जाति न पूछो साधु की, पूछ लीजिये ज्ञान,
मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान।

हिन्दी अर्थ: सज्जन की जाति न पूछ कर उसके ज्ञान को समझना चाहिए। तलवार का मूल्य होता है न कि, उसकी मयान का (उसे ढकने वाले खोल का)।
अंग्रेजी अर्थ: Never Ask religion of a knowledgeful person, Ask For the knowledge as there is the value of sword not its sheeth.

9- दोस पराए देखि करि, चला हसन्त हसन्त,
अपने याद न आवई, जिनका आदि न अंत।

हिन्दी अर्थ: यह मनुष्य का स्वभाव है कि, जब वह दूसरों के दोष देख कर हँसता है, तब उसे अपने दोष याद नहीं आते जिनका न आदि है न अंत।
अंग्रेजी अर्थ: It is the nature of man that he is glad to see the faults of others, and he does not remember his faults, which is neither a beginning nor an end.

10- जिन खोजा तिन पाइया, गहरे पानी पैठ,
मैं बपुरा बूडन डरा, रहा किनारे बैठ।

हिन्दी अर्थ: जो प्रयत्न करते हैं, वे कुछ न कुछ वैसे ही पा ही लेते हैं जैसे कोई मेहनत करने वाला गोताखोर गहरे पानी में जाता है और कुछ ले कर आता है। लेकिन कुछ बेचारे लोग ऐसे भी होते हैं जो डूबने के भय से किनारे पर ही बैठे रह जाते हैं और कुछ नहीं पाते।
अंग्रेजी अर्थ: The person who tries hard to get Anything, will surely get that as diver Goes deep in the Sea and get something. But some people afraid of drown in water and always sit on beach.

11- बोली एक अनमोल है, जो कोई बोलै जानि,
हिये तराजू तौलि के, तब मुख बाहर आनि।

हिन्दी अर्थ: यदि कोई सही तरीके से बोलना जानता है तो उसे पता है कि वाणी एक अमूल्य रत्न है। इसलिए वह ह्रदय के तराजू में तोलकर ही उसे मुँह से बाहर आने देता है।
अंग्रेजी अर्थ: If anyone knows the right way to speak then he Must now the value of us words. So he first think on what he is going to speak.

12- अति का भला न बोलना, अति की भली न चूप,
अति का भला न बरसना, अति की भली न धूप।

हिन्दी अर्थ: न तो अधिक बोलना अच्छा है, न ही जरूरत से ज्यादा चुप रहना ही ठीक है। जैसे बहुत अधिक वर्षा भी अच्छी नहीं और बहुत अधिक धूप भी अच्छी नहीं है।
अंग्रेजी अर्थ: Excessive amount of Anything is dangerous, one should neither talk to much, nor Keep quite. As to much Sun is not Good after to much rain.

13- निंदक नियरे राखिए, ऑंगन कुटी छवाय,
बिन पानी, साबुन बिना, निर्मल करे सुभाय।

हिन्दी अर्थ: जो हमारी निंदा करता है, उसे अपने अधिकाधिक पास ही रखना चाहिए। वह तो बिना साबुन और पानी के हमारी कमियाँ बता कर हमारे स्वभाव को साफ़ करता है।
अंग्रेजी अर्थ: We should Keep closer to the condemns, he always remove our impurities without any soap and water and Keeps our behavior polite.

14- कबीरा खड़ा बाज़ार में, माँगे सबकी खैर,
ना काहू से दोस्ती,न काहू से बैर।

हिन्दी अर्थ: इस संसार में आकर कबीर अपने जीवन में बस यही चाहते हैं कि, सबका भला हो और संसार में यदि किसी से दोस्ती नहीं तो दुश्मनी भी न हो।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir always wish well for everyone in this world. if you can't be Someone friends, never become anyone's enemy.

15- हिन्दू कहें मोहि राम पियारा, तुर्क कहें रहमाना,
आपस में दोउ लड़ी-लड़ी मुए, मरम न कोउ जाना।

हिन्दी अर्थ: कबीर कहते हैं कि, हिन्दू राम के भक्त हैं और तुर्क (मुस्लिम) को रहमान प्यारा है। इसी बात पर दोनों लड़-लड़ कर मौत के मुँह में जा पहुँचे, तब भी दोनों में से कोई सच को न जान पाया।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir says that, Hindus are devotees of Rama and Turks (Muslims) are the devotees of Rahman. Both fighting on the same matter and reached up to death, yet neither have come to know the truth.

16- कहत सुनत सब दिन गए, उरझि न सुरझ्या मन,
कही कबीर चेत्या नहीं, अजहूँ सो पहला दिन।

हिन्दी अर्थ: कहते-सुनते सब दिन निकल गए, पर यह मन उलझ कर न सुलझ पाया। कबीर कहते हैं कि, अब भी यह मन होश में नहीं आता। आज भी इसकी अवस्था पहले दिन के समान ही है।
अंग्रेजी अर्थ: Days passed hearing everyone, but heart is still in puzzel. Kabir says this heart still unconscious. Its state i us still same as first day.

17- कबीर लहरि समंद की, मोती बिखरे आई,
बगुला भेद न जानई, हँसा चुनी-चुनी खाई।

हिन्दी अर्थ: कबीर कहते हैं कि, समुद्र की लहर में मोती आकर बिखर गए। बगुला उनका भेद नहीं जानता, परन्तु हंस उन्हें चुन-चुन कर खा रहा है। इसका हिन्दी अर्थ यह है कि, किसी भी वस्तु का महत्व जानकार ही जानता है।
अंग्रेजी अर्थ: Kabir says, that there are many pearls shattered in the sea. Heron didn't know but swan eat them as we get to know the importance of after it gets lost.


लेख अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास भी कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख को आपके नाम के साथ भन्नाट.कॉम पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप Wordparking@Gmail.Com पर भेजें, साथ ही Twitter पर फॉलो करें Twitter@Bhannaat

।।।धन्यवाद।।।


Previous
Next Post »
loading...