Successful and Unsuccessful Person in Hindi

सफल और असफल लोगों में अंतर...

Safal aur Asafal Logon Mein Antar...

नमस्ते Friends,
बार-बार लोग मुझसे पूछते हैं कि, Successful लोगों में और Unsuccessful लोगों में क्या अंतर होता है। Actually दोनों में कोई अंतर नहीं केवल आपकी सोच का अंतर और अदाओं का अंतर होता है। नज़र बदलने से नज़ारे तथा सोच को बदलने से Life बदल सकती है। आपकी सोच में ज़रा सा फर्क आपकी पूरी Personality को बदल सकता है।

आइए देखते हैं, Successful और Unsuccessful लोगों में कुछ अंतर...


असफल लोगों की Habits...

1. जब भी असफल लोग Life में कुछ Achieve कर लेते हैं तो वे सारा Credit (श्रेय) खुद ही ले लेते हैं। जबकि सफल लोग किसी भी Achievement का Credit सभी को दे देते हैं। प्रशंसा में एक अलग ही तरह का जादू होता है जब आप किसी की प्रशंसा करते हैं लोग आपकी तरफ खिंचे चले आते हैं मानो, जैसे किसी की भी प्रशंसा करने से उसका हौंसला गिरता है वैसे ही किसी के मुँह पर कुछ गलत कहने से उसका मनोबल गिरता है अगर आप भी Life में कुछ टारगेट Achieve करना चाहते हैं तो दूसरों की प्रशंसा करने की आदत डालें लेकिन किसी की भी झूठी प्रशंसा मत कीजिए।

2. असफल लोग रोज़ Tv देखते हैं, जबकि सफल लोग Tv कभी-कभी देखते हैं। हम सबको पता है Tv जरूरी है लेकिन उससे भी ज्यादा जरूरी है आपका काम। जो भी आप काम करते हैं उसे पूरे मन से करें। Tv देखना गलत नहीं है लेकिन अपने जरूरी काम छोड़ कर Tv देखना गलत है. ये एक आदत सफल और असफल लोगों को अलग-अलग खड़ा करती है।

3. असफल लोग हमेशा दूसरे लोगों के बारे में बात करते हैं वो ऐसा है, वो वैसा है जिससे उनका बहुत Time Waste होता है, जबकि सफल लोग काम और Ideas के बारे में बात करते हैं। वह ये सोचते रहते हैं कि, अपने काम को कैसे आगे बढ़ाया जाए। जब आप किसी भी चीज़ पर Focus करते हैं तो, उससे कुछ ना कुछ जरूर निकाल कर आता है। Tv Entertainment के लिए होता है इसे अपनी Life में Time Waste मत करने दीजिए। वैसे भी ज़िन्दगी केवल 4 दिन की है जब तक सोचोगे तब तक ख़त्म हो जाएगी। यदि आपके पास कुछ Idea है या कुछ नया करना चाहते हैं तो आज ही शुरु करें। याद रखिए एक जगह पर बैठ कर कोई भी सफ़र तय नहीं किया जा सकता।

4. असफल लोग अपनी गलती नहीं मानते वे अपनी गलती का दोष किसी और पर डालने की कोशिश करते हैं गलतियों से घबरना नहीं चाहिए गलतियाँ सब से होती है। एक English में कहावत है कि, Mistakes are the stepping stones of the success. मतलब गलतियाँ सफलता की सीढ़ी हैं लेकिन मैं इसे नहीं मानता। मेरा मानना है कि, Learning from mistakes and keeping improvement after each mistakes is the stepping stones of success. मतलब गलती में सुधार ही सफलता की सीढ़ी है जबकि सफल लोग गलतियों को स्वीकार कर के उसे सुधरने की कोशिश करते हैं।

5. असफल लोग ऊपर कुछ और होते हैं और अन्दर से कुछ और. ऊपर से आपकी मंगल कामना करते हैं और अन्दर से आप के लिए गलत Feeling रखते हैं आजकल मंदिर में लोग अपनी लिए प्रार्थना कम और दूसरों के बारे में गलत भावना ले कर अधिक जाते हैं। जबकि सफल लोग दूसरों के प्रति गलत भावना नहीं रखते बल्कि, सभी की Help करते हैं।

6. असफल लोगों को जीवन में कुछ भी साफ़-साफ़ नज़र नहीं आता वे हमेशा Confusion में ही रहते हैं कि, क्या करें, क्या न करें? उनका जीवन में कोई Clear Goal नहीं होता जिससे उन्हें Motivation मिले जबकि सफल लोग जीवन में अपना Goal Set करते हैं और उसे Achieve करने की कोशिश में लगे रहते हैं। सफल होने के लिए जीवन में किसी न किसी लक्ष्य का होना बहुत जरूरी है जितना बड़ा लक्ष्य होगा उतना ही बड़ा उसका हौंसला भी होगा। भले ही आप अपने लक्ष्य को Achieve न कर पाओ लेकिन फिर भी Goal Set करो, उसका पीछा करो, क्योंकि बिना कुछ करके हारना बिना कुछ किए हारने से बहुत अच्छा है।

7. असफल लोग चुनौतियों का सामना करने से कतराते हैं, वे किसी भी Problem में फँसते ही गुस्से में आ जाते हैं और गुस्से में हम हमेशा गलत Decision ले लेते हैं, जबकि सफल लोग चुनौतियों का सामना शांति से करते हैं ऐसा नहीं है कि उन्हें गुस्सा नहीं आता लेकिन वह गुस्से को सही दिशा में Use करते हैं। इसे एक उदाहरण से समझते हैं, 
एक बार मोहन दास गाँधी Train में सफ़र कर रहे थे, अंग्रेजों को किसी भी Indian का Train में सफ़र करना अच्छा नहीं लगता था। उन्होंने गाँधी जी को काला नंगा फ़क़ीर कहा और अपमानित करते हुए Train से धक्के मार कर बाहर निकाल दिया। इस बात से मोहन दास गाँधी को बहुत बुरा Feel हुआ। उनके दिल में बदले की आग जल रही थी लेकिन उन्होंने उस गुस्से को एक सही दिशा में Use किया और उसी दिन कसम खाई कि, जिस तरह से अंग्रेजों ने उन्हें Train से बाहर फ़ेंक दिया उसी तरह वह भी अंग्रेजों को India से बाहर कर देंगे। अगर गाँधी जी चाहते तो उसी समय अंग्रेजों पर हमला कर सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया, गुस्से को पाल कर इतना बड़ा किया कि, उस गुस्से ने उन्हें एक महान व्यक्ति बना दिया। 
अपने गुस्से पर Control रखना बहुत जरूरी है। गुस्से से हमेशा मुँह से कोई ना कोई ऐसी बात निकल जाती है जो नहीं निकालनी चाहिए थी। सफल और असफल लोगों में सिर्फ आदतों का फर्क होता है तो आज से ही शुरुआत कीजिए, अपनी Habits को बदलने की. Impossible कुछ भी नहीं, एक बार अगर कुछ मन में ठान लो तो कुछ भी मुश्किल नहीं केवल देर है तो कोशिश करने की...

लेख अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास भी कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख को आपके नाम के साथ भन्नाट.कॉम पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप wordparking@gmail.com पर भेजें, साथ ही Twitter पर फॉलो करें Twitter@Bhannaat.

Previous
Next Post »

2 comments

Write comments
MS Rawat
AUTHOR
October 4, 2016 at 1:56 PM delete

Nice Post and nice line ''असफल लोगों को जीवन में कुछ भी साफ़-साफ़ नज़र नहीं आता वे हमेशा Confusion में ही रहते हैं'' keep it up

Reply
avatar
October 4, 2016 at 3:06 PM delete

धन्वयाद rawat जी इसी तरह हम से जुड़े रहिए...

Reply
avatar
loading...