A Letter to Mother by Subhash Chandra Bose

A Letter to Mother by Subhash Chandra Bose...

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस जी का पत्र अपनी माँ को... (Subhash Chandra ka Patra apni Maa ko)
नमस्ते friends, आप सब सुभाष चन्द्र बोस को तो जानते ही होंगे। इनका जन्म 23 January, 1897 में Cuttak में हुआ था और इनकी मृत्यु 18 august 1945 Taipei, Taiwan में रहस्यमय तरीके से हुई थी। इन्होंने Scottish Church College (1918) से अपनी education complete की। आज हम उनके लिखे हुए पत्र को पढ़ेंगे, जो पत्र सुभाष चन्द्र ने अपनी माँ को लिखा था।

पत्र कुछ इस प्रकार है...

सादर चरण स्पर्श!
आशा है कि, आप कुशल मंगल से होंगी।

आज सुबह से ही मन में बार-बार विचार आ रहा है कि, क्या गुलाम भारत में एक भी संतान स्वार्थ रहित नहीं है या भारत माता इतनी आगामी है कहाँ है वे वीर आर्य को भारत माता के लिए अपने प्राण दे सके।

अब हमें जागना होगा। कब तक हम भारत की यही दुर्दशा देखते रहेंगे। चौरासी लाख योनियों के बाद हमें ये मनुष्य का जन्म मिला है अगर हम इस जन्म में कुछ भी श्रेष्ठ न कर पाएँ तो हमारा जीवन ही बेकार है। भगवान ने कलयुग में एक नई जाति बनाई है और वह है बाबु लोगों की जाति। यह जाति किसी अन्य युग में नहीं थी। भगवान् ने हमें पैर दिए हैं लेकिन हम 10-20 kilometer भी चल नहीं सकते। भगवान ने हमें हाथ दिए हैं और हम कुछ श्रम वाला काम नहीं कर सकते, क्योंकि हम बाबु हैं। हम श्रम को छोटे लोगों का काम समझकर उस से घृणा करते हैं।

यही कारण है कि, हम बाबु हैं हम सब काम नौकरों से करवाना चाहते हैं हाथ पैर चलाने में हमें कष्ट होता है क्योंकि हम बाबु हैं। गर्म देश में जन्म लेकर भी हम गर्मी सहन नहीं कर सकते और साधारण सी ठण्ड में हम कपड़ों से लद जाते हैं। ज्ञान विवेक होते हुए भी हम उसका प्रयोग नहीं करते। मानवता की ओर हमारा ध्यान ही नहीं जाता। यही कारण है कि, हमारा देश दिन-प्रतिदिन पतन की ओर बढ़ रहा है।

लेकिन अब समझ आ गया है जब हमें अपना स्वार्थ त्याग कर भारत माता की सेवा में लग जाना चाहिए। आजकल मेरा दिल हर रोज़ भारत माता के रोने की आवाज़ सुनता है शायद एक दिन और भी लोग इसकी ये आवाज़ सुन पाएँगे। मैं हमेशा भारत माता का सेवक बन कर रहना चाहता हूँ।

माँ, मैं इस राष्ट्र कल्याण में अपनी आहुति दे रहा हूँ। यदि इस बीच तुम्हारी सेवा न कर सकूँ तो मुझे क्षमा कर देना क्योंकि तुम्हारी सेवा में सिर्फ मेरा ही कल्याण होगा लेकिन भारत माता की सेवा में पूरे राष्ट्र का कल्याण होगा। मुझे आशीर्वाद दे माँ कि, मैं तुम्हारे दूध और और गर्म धरती की लाज बचा सकूँ। अपना ख्याल रखना माँ।                                                                             आपका पुत्र सुभाष।

Here are some quotes said by Subhash Chandra Bose:

एक इंसान किसी योजना के लिए मर सकता है लेकिन मरने के बाद वह हजारों लोगों में अवतार लेता है।
One individual may die for an idea, but that idea will, after his death, incarnate itself in a thousand lives.
आज़ादी मिलती नहीं इसे लेना पड़ता है।
Freedom is not given - it is taken.
इतिहास में आज तक कोई भी बड़ी उपलब्धि विचार-विमर्श से नहीं पाई गई।
No real change in history has ever been achieved by discussions.
तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा।
Give me blood and I will give you freedom!
यह हमारा कर्तव्य है कि, आज़ादी की कीमत हमें आपने खून से चुकानी चाहिए। जो आज़ादी हम अपने खून से पाते हैं वह हमारे साथ हमारी ताकत बनती है।
It is our duty to pay for our liberty with our own blood. The freedom that we shall win through our sacrifice and exertions, we shall be able to preserve with our own strength.
जो सैनिक हमेशा अपने देश के प्रति वफादार रहते हैं, जो हमेशा अपना बलिदान देने के लिए तैयार रहते हैं वे अमर हैं
Soldiers who always remain faithful to their nation, who are always prepared to sacrifice their lives, are invincible.
राजनीति का एक सीधा रहस्य है कि, आप कितने बड़े हो उस से बड़ा आपको दिखावा करना है।
The secret of political is to look stronger than what you really are.
जब हम खड़े हों आज़ाद हिन्द फ़ौज को एक बम के सामान होना चाहिए और जब हम आगे बढ़ें तो आज़ाद हिन्द फ़ौज एक फौलाद जैसा होना चाहिए।
When we stand, the Aazaad Hind Fauz has to be like a wall of granite; when we march, the Aazaad Hind Fauz has to be like a steamroller.
याद रखिए सबसे बड़ा अपराध अन्याय सहना और गलत का साथ देना है।
Always remember, the biggest sim is to bear injustice and stay in favour of crime.
सफल होने के लिए आपको अकेले चलना होगा। लोग तो तब आपके साथ आते हैं जब आप सफल हो जाते हैं
You need to walk alone in order to be successful and when you will become successful people will follow you.

लेख अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास भी कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख को आपके नाम के साथ भन्नाट.कॉम पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप wordparking@gmail.com पर भेजें, साथ ही Twitter पर फॉलो करें Twitter@Bhannaat
!!!धन्यवाद!!!


Previous
Next Post »

1 comments:

Write comments
October 18, 2016 at 4:19 PM delete

Such a nice and unique article

Reply
avatar
loading...