History of India: The Beginning

History of India: The Beginning...



Friends, आज से हम अपनी Website पर Indian History को भी जगह देने जा रहे हैं ताकि अधिक से अधिक लोगों को भारत के इतिहास के बारे में जानकारी मिले। लोगों के मन में बहुत से प्रश्न आते हैं कि, दुनिया कैसे शुरू हुई और India में सबसे पहले कौन आया और कहाँ से सब कुछ Start हो गया। हम कोशिश करेंगे कि, आप को History की Full Knowledge दें।

What is History...?




History मतलब इतिहास है। यह शब्द संस्कृत भाषा से आया है इति+ह+आस जिसका मतलब है ऐसा घटित हुआ है। अर्थात् Past में हुए Incidents और व्यक्तियों का विवरण इतिहास है।
मानव हमेशा से ही अपने अतीत के बारे में Information जनना चाहता है। अपने आस पास की वस्तुएँ जैसे जगहों, भवनों, दुर्गों, मंदिरों-तालाबों और कई प्राचीन (Ancient) चीज़ों और अवशेषों से वह अपनी History का अनुमान लगाता है।

इतिहासकार पुराने समय की जानकारी के लिए कुछ निश्चित साधनों की सहायता लेते हैं। ये साधन उस युग के औजारों, जीवाश्म, पात्र, भोजपत्र, आभूषण, इमारतें, सिक्के, अभिलेख, चित्र, यात्रियों द्वारा लिखे यात्रा के विवरण आदि।



History को 2 Parts में बाँटा गया है...

History के बारे में अधिक जानकारी के लिए आपको निम्न चीज़ों का ज्ञान होना चाहिए। जैसे:
पुरातात्विक स्त्रोत (Ancient Sources) और साहित्यिक स्त्रोत (Modern Sourced)शिलालेख: पत्थरों पर खोदकर लिखी गई बातों को शिलालेख कहते हैं।भोजपत्र : पेड़ों की छाल पर लिखे गए प्राचीन ग्रन्थ।ताड़पत्र : ताड़ के वृक्ष पर रंग या Ink से लिखी गई बातें।जीवाश्म : प्राचीन जीव, मनुष्य, जानवरों की हड्डियाँ आदि।
लगभग सभी शिलालेख संस्कृत, प्राकृत पाली और तमिल Language और ब्राहमी Language में लिखे गए हैं। इस Type की लिपि पढ़ना सब के बस की बात नहीं है। लेकिन लिपिशास्त्री इन लिपियों को पढ़ सकते हैं। मानव को जब लिपियों का ज्ञान नहीं था तब वह अपनी बातों को चित्रों के रूप में दिखाते थे जिसे शैलचित्र कहते हैं। 





Madhya Pradesh में Bhopal के पास भीमबैठिका के शैल चित्र इस बात के Proof हैं वैसे तो ये Sculptures India में बहुत जगह पर मिलते हैं लेकिन Madhya Pradesh में सबसे अधिक हैं। इनकी खोज पद्म श्री वाकणकर द्वारा की गई थी। इस जगह को विश्व धरोहर (World Heritage Sight) की सूची में शामिल किया गया है।

History की ओर Detail हमें प्राचीन ग्रन्थ जैसे वेद-पुराण, रामायण, महाभारत, साहित्य, त्रिपिटक और उस Time के समाज, नगरों, रीति रिवाजों, Sanskrit धार्मिक, सामाजिक और राजनैतिक दशा की जानकारी देते हैं।
Time के साथ-साथ Business बढ़ाकर व्यापारी Import Export के लिए एक से दूसरी जगहों पर गए, लेन-देन बढ़ा, लोग एक दूसरे से मिले और New Languages Form हुई... अगर आपके पास भी History से जुड़ी हुई कोई जानकारी है तो हमें Comment में अवश्य लिखें।



लेख अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास भी कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख को आपके नाम के साथ भन्नाट.कॉम पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप wordparking@gmail.com पर भेजें, साथ ही Twitter पर फॉलो करें Twitter@Bhannaat

!!!धन्यवाद!!!

Previous
Next Post »

1 comments:

Write comments
loading...