Power Of PositiveThinking in Hindi

Power Of Positive Thinking in Hindi

...नजरिया...




एक महान लेखक अपने लेखन कक्ष में बैठा हुआ लिख रहा था...


Negative Thinking


- 1) पिछले साल मेरा operation हुआ और मेरा gallbladder निकाल दिया गया। इस आपरेशन के कारण बहुत लम्बे समय तक बिस्तर पर रहना पड़ा।

- 2) इसी साल मैं 60 वर्ष का हुआ और मेरी पसंदीदा नौकरी चली गई। जब मैंने उस प्रकाशन संस्था को छोड़ा तब 30 साल हो गए थे मुझे उस कम्पनी में काम करते हुए।

- 3) इसी साल मुझे अपने पिता की मृत्यु का दुःख भी झेलना पड़ा।

- 4) इसी साल मेरा बेटा car accident हो जाने के कारण medical की परीक्षा में फेल हो गया क्योंकि उसे बहुत दिनों तक अस्पताल में रहना पड़ा। car की repairing का नुकसान अलग हुआ।

अंत में लेखक ने लिखा, वह बहुत ही बुरा साल था...



जब लेखक की पत्नी लेखन कक्ष में आई तो उसने देखा कि, उसका पति बहुत दुखी लग रहा है और अपने ही विचारों में खोया हुआ है। अपने पति की कुर्सी के पीछे खड़े होकर उसने देखा और पढ़ा कि वो क्या लिख रहा था?

वह चुपचाप कक्ष से बाहर गई और थोड़ी देर बाद एक दूसरे कागज़ के साथ वापस लौटी और वह कागज़ उसने अपने पति के लिखे हुए कागज़ के बगल में रख दिया।


लेखक ने पत्नी के रखे कागज़ पर देखा तो उसे कुछ लिखा हुआ नजर आया, उसने पढ़ा...

Positive Thinking


+ 1) पिछले साल आखिर मुझे उस gallbladder से छुटकारा मिल गया जिसके कारण मैं कई सालों से दर्द से परेशान था।

+ 2) इसी साल मैं 60 वर्ष का होकर स्वस्थ दुरस्त अपनी प्रकाशन कम्पनी की नौकरी से सेवानिवृत्त (retire) हुआ। अब मैं पूरा ध्यान लगाकर शान्ति के साथ अपने समय का उपयोग और बढ़िया लिखने के लिए कर पाऊँगा।

+ 3) इसी साल मेरे 95 वर्ष के पिता बगैर किसी पर आश्रित हुए और बिना गम्भीर बीमार हुए परमात्मा के पास चले गए।



+ 4) इसी साल भगवान् ने accident में मेरे बेटे की रक्षा की। कार repairing गई लेकिन मेरे बच्चे की जिंदगी बच गई। उसे नई जिंदगी तो मिली ही और हाथ-पाँव भी सही सलामत हैं।

अंत में उसकी पत्नी ने लिखा था,
इस साल भगवान की हम पर बहुत कृपा रही, साल अच्छा बीता।
मित्रों,
हमारे जीवन में बहुत सी परेशानी आती है लेकिन depend करता है कि, आप उन्हें किस नज़रिए से देखते हैंअगर आप किसी भी चीज़ को negatively लेंगे तो कौन सा आपकी problem सही होने वाली है इसलिए हमेशा positive ही सोचना चाहिए। जैसे हर सिक्के के दो पहलु होते हैं उसी तरह हर situation के भी 2 पहलु होते हैंlife एक cigarette की तरह है आप खुश रहो या दुखी ये तो गुज़र ही रही है problem के बारे में नही problem के solution के बारे में सोचिए जिसे दूसरे शब्दों में power of positive thinking कहते हैं



आपको यह लेख पसंद आए तो अवश्य शेयर करें। इससे किसी न किसी का नजरिया और जीवन में बदलाव आ सकता है।

लेख अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें, जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास भी कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख को आपके नाम के साथ भन्नाट.कॉम पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप Wordparking@Gmail.Com पर भेजें, साथ ही Twitter पर फॉलो करें...





धन्यवाद !!


Previous
Next Post »