Archimedes Law In Hindi

Archimedes Law In Hindi

अर्चमेमेडीस का सिद्धांत




Archimedes का सिद्धांत, इसे हम सब ने अपनी Classes में पढ़ा होगा। ये वही सिद्धांत है जिसमें पानी का जहाज पानी में तैर जाता है और एक सुई पानी में डूब जाती है।



Definition:

The law that a body immersed in a fluid is buoyed up by a force equal to the weight of the fluid displaced by the body is called Archimedes principle.


कभी आपने ध्यान दिया होगा कि, एक Football पानी पर तैरने लगता है लेकिन एक पत्थर पानी में डूब जाता है इसका क्या कारण हो सकता है? हो सकता है फुटबॉल पत्थर से हलकी हो इसलिए पानी में तैरने लगती है और पत्थर अपने भरी होने के कारण पानी में डूब जाता है लेकिन ऐसा नहीं है क्योंकि अगर ऐसा होता तो एक सिक्का जिसका वजन एक फुटबॉल से कम है फिर भी वह पानी में डूब जाता है लेकिन नाव तैरती जाती है तो इसके पीछे कुछ और Logic होना चाहिए इसी वजह से हमे पहले Archimedes Principle समझना होगा।



History Of Archimedes Principle

आज से लगभग 2000 साल पहले की बात है Greece देश में Archimedes नाम के एक महान वैज्ञानिक रहते थे, Greece का राजा हैरो (Hero) Archimedes को बहुत मानते थे। एक बात हैरो ने सुनार से एक सोने का मुकुट बनाने को कहा... जब वह मुकुट बन गया तो राजा को शक हुआ कि सुनार ने मुकुट में किसी अन्य धातु की कुछ मिलावट तो नहीं की है उस ज़माने में आजकल जैसी Modern Techniques नहीं होती थी तो Archemedes उलझन में पड़ गए। फिर Archimedes ने राजा से वैसा ही सोने का टुकड़ा माँगा जैसा उन्होंने सुनार को मुकुट बनाने के लिए दिया था तो जब Archimedes ने तोला तो यह पाया कि, मुकुट का द्रव्यमान और सोने का द्रव्यमान बराबर है। Archimedes सोचने लगे कि, यदि मुकुट शुद्ध सोने का बना है तो दोनों का आयतन भी बराबर होना चाहिए अब समस्या यह थी कि दोनों का आयतन कैसे मापा जाए?

इसी उधेड़बुन में Archimedes नहाने जा रहे थे तो जैसे ही वे Bathtub में नहाने के लिए उतरे तो पानी Bathtub के बाहर Fail गया बस फिर क्या था Archimedes को अपनी समस्या का समाधान मिल गया। वे इतने खुश हुए कि Eureca Eureca चिल्लाते हुए सड़क पर भागे, Eureca का मतलब है मिल गया, मिल गया... Archimedes को यह बात समझ में आ गई कि, हर वस्तु द्रव में डुबाने पर उतना ही द्रव्य विस्तापित करती हैऔर विस्तापित द्रव्य का आयतन वस्तु के द्रव्य में बराबर होता है। फिर फिर Archimedes ने सोने के टुकड़े और मुकुट को बारी-बारी से पानी में डुबोया और दोनों के द्वारा बाहर झलके या विस्तापित पानी की तुलना की और पाया कि, मुकुट द्वारा विस्तापित पानी ज्यादा निकला।



इसका मतलब यह हुआ कि, राजा का शक सच निकला। सुनार ने सच में ही मुकुट में मिलावट की थी इस पर राजा को गुस्सा आया और उस ने सुनार को सजा दी।


Archimedes Principle in Hindi:

Archimedes की कहानी अभी पूरी नहीं हुई। उन्होंने यह भी पाया कि, किसी भी वस्तु को अगर पानी में डुबोया जाता है तो वस्तु का भार कम प्रतीत होता है लेकिन ऐसा क्यों होता है क्योंकि पानी पत्थर की तरफ एक बल लगा रहा है, जिसकी वजह से पत्थर पानी के अन्दर हल्का और पानी के बाहर भारी प्रतीत होता है इसी बल को उत्प्लावन बल कहते है लेकिन ये उत्प्लावन बल होता कितना है?

इसी का जवाब हमें Archimedes ने समझाया है जिसे हम Archemedes का नियम कहते हैं, चलिए इसे एक Experiment से समझते हैं।



experiment 1# on Archimedes Principle in Hindi

एक पत्थर जिसका Weight 80g है इसे पानी में डुबोया जाता है तो कुछ पानी बाहर की और निकलता है उस पानी का वजन 30 निकलेगा अब हम यह कह सकते हैं कि, पानी का 30 ग्राम का भार पत्थर के Weight में कमी के बराबर है, और यही Archimedes का नियम है।


" आंशिक या पूर्ण रूप से डूबी हुई किसी भी वस्तु पर लगने वाला उत्प्लावन (Buoyant force) बल उसके द्वारा विस्तापित (Displaced) तरल के भार के बराबर होता है"




लेकिन अब भी एक सवाल बना हुआ है कि, जब पत्थर पर उत्प्लावन बल (Buoyant Force) लग रहा है तो पत्थर पानी में क्यों डूब जाता है...? ऐसा इसलिए क्योंकि पत्थर का भार पत्थर पर लगने वाले उत्प्लावन बल (Buoyant Force) से ज्यादा है, इसलिए पत्थर डूब जाता है, इसका मतलब अगर उत्प्लावन बल किसी भी वस्तु के भार से अधिक होगा तो वस्तु पानी के उपर आ जाएगी और एक स्थिति ऐसी आती है जब वस्तु का भार उत्प्लावन बल (Buoyant Force) के बराबर हो जाता है तो वस्तु जल पर तैरने लगती है।


experiment 2# on Archimedes Principal in Hindi

एक कटोरी या कढाई को जब पानी में डुबोया जाता है तो वह पानी में नहीं डूबती क्योंकि उसका भार पानी के उत्प्लावन बल के बराबर है लेकिन जैसे ही आप उस कटोरी या कढ़ाई में कुछ डाल कर उसका भार बढ़ाते हैं तो वह उत्प्लावन बल (Buoyant Force) से भारी हो जाती है और डूब जाती है यही कारण है कि, एक लोहे की कील पानी में डूब जाती है और लोहे का जहाज पानी में तैरने लगता है। आशा है कि, अब आपको Archimedes का सिद्धांत समझ आ गया होगा।



लेख अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें, जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास भी कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख को आपके नाम के साथ भन्नाट.कॉम पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आपWordparking@Gmail.Com पर भेजें, साथ ही Twitter पर फॉलो करें...

धन्यवाद !!!



Previous
Next Post »