Sanskaar ki Kahani in Hindi

Story Of Manners in hindi


Sanskaar ki Kahani in Hindi...

Behaviour Story...

एक घर में तीन भाई और एक बहन थी... बड़ा और छोटा पढ़ने में बहुत तेज थे। उनके माँ-बाप उन चारों से बेहद प्यार करते थे मगर मझले बेटे से थोड़ा परेशान से थे।



बड़ा बेटा पढ़-लिखकर डाक्टर बन गया। छोटा भी पढ़-लिखकर इंजीनियर बन गया। मगर मझला बिलकुल अवारा और गँवार बनके ही रह गया। सबकी शादी हो गई। बहन और मझले को छोड़ दोनों भाईयों ने Love मैरीज की थी।

बहन की शादी भी अच्छे घराने में हुई थी। आखिर भाई सब डाक्टर इंजीनियर जो थे।

अब मझले को कोई लड़की नहीं मिल रही थी। बाप भी परेशान माँ भी।
बहन जब भी मायके आती सबसे पहले छोटे भाई और बड़े भैया से मिलती। मगर मझले से कम ही मिलती थी। क्योंकि वह न तो कुछ दे सकता था और न ही वह जल्दी घर पे मिलता था।

वैसे वह दिहाड़ी मजदूरी करता था। पढ़ नहीं सका तो... नौकरी कौन देता। मझले की शादी किए बिना बाप गुजर गए।

माँ ने सोचा कहीं अब बँटवारे की बात न निकले इसलिए अपने ही गाँव से एक सीधी-साधी लड़की से मझले की शादी करवा दी। शादी होते ही न जाने क्या हुआ कि, मझला बड़े लगन से काम करने लगा।



दोस्तों ने कहा... ए चन्दू आज अड्डे पे आना।

चंदू - आज नहीं फिर कभी

दोस्त - अरे तू शादी के बाद तो जैसे बीबी का गुलाम ही हो गया?

चंदू - अरे ऐसी बात नहीं। कल मैं अकेला एक पेट था तो अपने रोटी के हिस्से कमा लेता था। अब दो पेट हैं आज, कल और होगा।

घर वाले नालायक कहते थे कहते हैं मेरे लिए चलता है। मगर मेरी पत्नी मुझे कभी नालायक कहे तो मेरी मर्दानगी पर एक भद्दा गाली है। क्योंकि एक पत्नी के लिए उसका पति उसका घमंड, इज्जत और उम्मीद होता है। उसके घरवालों ने भी तो मुझ पर भरोसा करके ही तो अपनी बेटी दी होगी... फिर उनका भरोसा कैसे तोड़ सकता हूँ? कालेज में नौकरी की डिग्री मिलती है और ऐसे संस्कार माँ-बाप से मिलते हैं।



इधर घर पे बड़ा और छोटा भाई और उनकी पत्नियाँ मिलकर आपस में फैसला करते हैं कि, जायदाद का बँटवारा हो जाए क्योंकि हम दोनों लाखों कमाते हैं मगर मझला ना के बराबर कमाता है। ऐसा नहीं होगा।

माँ के लाख मना करने पर भी... बँटवारे की तारीख तय होती है। बहन भी आ जाती है मगर चंदू है कि, काम पे निकलने के बाहर आता है। उसके दोनों भाई उसको पकड़कर भीतर लाकर बोलते हैं कि, आज तो रूक जा? बँटवारा कर ही लेते हैं। वकील कहता है ऐसा नहीं होता। साईन करना पड़ता है।

चंदू - तुम लोग बँटवारा करो मेरे हिस्से में जो देना है दे देना। मैं शाम को आकर अपना बड़ा सा अँगूठा चिपका दूँगा पेपर पर।

बहन- अरे बेवकूफ... तू गँवार का गँवार ही रहेगा। तेरी किस्मत अच्छी है कि, तुझे इतनी अच्छे भाई और भैया मिले



माँ- अरे चंदू आज रूक जा।

बँटवारे में कुल दस बीघा जमीन में दोनों भाई 5-5 बीघा रख लेते हैं।
और चंदू को पुस्तैनी घर छोड़ देते हैं, तभी चंदू जोर से चिल्लाता है।

अरे??? फिर हमारी छुटकी का हिस्सा कौन सा है?
दोनों भाई हँसकर बोलते हैं

अरे मूरख... बँटवारा भाईयों में होता है और बहनों के हिस्से में सिर्फ उसका मायका ही है।

चंदू - ओह... शायद पढ़ा-लिखा न होना भी मूर्खता ही है।



ठीक है आप दोनों ऐसा करो।

मेंरे हिस्से की वसीएत मेरी बहन छुटकी के नाम कर दो।

दोनों भाई चकित होकर बोलते हैं... और तू?

चंदू माँ की और देखके मुस्कुरा के बोलता है
मेरे हिस्से में माँ है न...

फिर अपनी बीबी की ओर देखकर बोलता है.. मुस्कुराके... क्यों चंदूनी जी... क्या मैंने गलत कहा?

चंदूनी अपनी सास से लिपटकर कहती है। इससे बड़ी वसीएत क्या होगी मेरे लिए की मुझे माँ जैसी सासु मिली और बाप जैसा ख्याल रखना वाला पति।

बस यही शब्द थे जो बँटवारे को सन्नाटा में बदल दिया।



बहन दौड़कर अपने गँवार भैया से गले लगकर रोते हुए कहती है कि, माफ़ कर दो भैया मुझे क्योंकि मैं समझ न सकी आपको।

चंदू - इस घर में तेरा भी उतना ही अधिकार है जितना हम सभी का।बहुओं को जलाने की हिम्मत किसी में नहीं मगर फिर भी जलाई जाती है क्योंकि शादी के बाद हर भाई हर बाप उसे पराया समझने लगते हैं। मगर मेरे लिए तुम सब बहुत अजीज हो चाहे पास रहो या दूर।

माँ का चुनाव इसलिए किया ताकि तुम सब हमेशा मुझे याद आओ। क्योंकि ये वही कोख है जहाँ हमने साथ-साथ 9-9 महीने गुजारे। माँ के साथ तुम्हारी यादों को भी मैं रख रहा हूँ।

दोनों भाई दौड़कर मझले से गले मिलकर रोते-रोते कहते हैं...

आज तो तू सचमुच का बाबा लग रहा है। सबकी पलकों पे पानी ही पानी। सब एक साथ फिर से रहने लगते हैं।



TAGS: संस्कार क्या होते हैं, sanskaar ki kahani, sanskaar naam ki cheej, sanskar kya hai, ghar me kaise sanskaar, sanskar ki paribhasha, bhaiyon ki kahani, bantware ki kahani, sanskar ki story, story on sanskar, what is sanskar, achche sanskaar, bure sanskaar, 

Article अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें, जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास भी कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख को आपके नाम के साथ Bhannaat.com पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप Wordparking@Gmail.Com पर भेजें, साथ ही Twitter पर फॉलो करें ।
धन्यवाद !!!

Previous
Next Post »