Who Are Eunuchs And Facts About Hijaras In Hindi

what are hijada community, kinnar kaise paida hote hain, kinnar kaun hote hain, history of eunuchs in hindi, science of eunuchs in hindi, hijaro ke marne ke baad kya hota hai

Who Are Eunuchs And Facts About Hijaras In Hindi

किन्नर कौन हैं और उनसे जुड़े तथ्य

प्रकृत‌ि में male और female के अतिरिक्त एक अन्य वर्ग भी है जो न तो पूरी तरह नर होता है और न नारी। जिसे लोग हिजड़ा या किन्नर या फिर transgender के नाम से संबोधित करते हैं। अक्सर लोगों को इस third gender के विषय में जानने की विशेष जिज्ञासा रहती है। आइये जाने की आखिर किन्नर क्या होते है।

किन्नर पैदायशी रूप से न ही स्त्री लिंग हैं न ही पुरुष अपितु प्रकृति ने इन्हें अन्तः लिंगी (different gender) अथवा अलैंगिक स्वरुप का बनाया है | अधिकांश किन्नर पुरुष शारीरिक संरचना (male structure) के होते हैं परन्तु उनका व्यवहार स्त्रियोचित (female natured) होता है | बहुत कम किन्नर ऐसे भी होते हैं जिनकी शारीरिक संरचना स्त्रियों जैसी होती है परन्तु दोनों किन्नरों में जननांग अवशेषी (nominal) रूप में होते हैं जो active नहीं होते हैं|  इनमे पुरुष और स्त्री दोनों के गुण एक साथ पाए जाते हैं यह कुछ मामलों में normal male या females से different भी होते हैं।

Science of eunuch :

इस condition को science की भाषा मे pseudo-hermaphrodite कहा जाता है, विज्ञान के हिसाब से XX Chromosomes की उपस्थिति के कारण लड़की, XY Chromosomes की उपस्थिति के कारण लड़के एवं XXY Chromosomes की उपस्थिति के कारण हिजड़ों या किन्नरों का जन्म होता है।
वास्तव में हिजड़े या किन्नर इंसानो की वह अवस्था है जब स्त्रीगर्भ में इनके शरीर के formation में किसी एक लिंग का निर्धारण होते होते या तो develop नहीं हो पाता है या कुछ समय बाद दूसरे लिंग का विकास होने लगता है। इस प्रकार हिजड़े या किन्नर में लिंग या योनि या तो अविकसित अवस्था में होते हैं या फिर लिंग और योनि का मिलावटी स्वरुप हो जाता है। इसी मिलावटी स्वरुप वाले लोगों की अवस्था को मध्यलिंगता (Inter sexuality) कहा जाता है। यह पुरुष और स्त्री किसी की भी ओर आकर्षित हो सकते हैं।

किन्नरों से जुड़ी लोक कथा:
भारत मे किन्नरों का इतिहास 4000 साल पुराना है लगभग रामायण काल का। जब राम, लक्ष्मण एवम सीता को वनवास जाना पड़ा तब राम अयोधया में मिलने आये लोगों से विदाई ले रहे थे, विदाई लेते समय राम ने कहा कि सभी स्त्री एवं पुरुष अपने अपने घरों को लौट जाएं और इतना कहकर राम ने  अयोध्या की प्रजा से विदा ली और अपने रास्ते चल पड़े। 14 वर्ष के वनवास के बाद जब राम लौट कर आये तो उन्होंने देखा कि किन्नर 14 वर्षो तक वही खड़े रहे। जब राम ने उनके खड़े रहने का कारण पूछा तो उन्होंने कहा कि आप ने सभी स्त्री एवम पुरुषों को जाने के लिए कहा था किन्नरों को नहीं।

Facts about Eunuch (Hijara) community in hindi


● ज्योतिष के अनुसार वीर्य की अधिकता से पुरुष (पुत्र) उतपन्न होता है। रक्त की अधिकता से स्त्री (कन्या) उतपन्न होती है। वीर्य और राज़ समान हो तो किन्नर संतान उतपन्न होती है।
According to astronomy male child is born due to excess of seamen and female child is born due to excess of blood.

● हिंजड़ों की शव यात्राएं रात्रि को निकाली जाती है। किसी भी अन्य पुरुष या स्त्री को शव यात्रा में शामिल नहीं किया जाता। शव यात्रा को उठाने से पूर्व जूतों-चप्पलों से पीटा जाता है। किन्नर के मरने उपरांत पूरा हिंजड़ा समुदाय एक सप्ताह तक भूखा रहता है।
Dead body during death rally is carried out in the night and no one is allowed to join the procedure. They beat dead body with shoes and sandals. They take long fast of one week after death of their member.

● किन्नर समुदाय में गुरू शिष्य जैसे प्राचीन परम्परा आज भी यथावत बनी हुई है। किन्नर समुदाय के सदस्य स्वयं को मंगल मुखी कहते है क्योंकि ये सिर्फ मांगलिक कार्यो में ही हिस्सा लेते हैं मातम में नहीं।
Teaching system of eunuchs is still exists in this era. They consider thyself as good luck that's why they only take part in joy ceremonies not in sorrow.

● किन्नर समाज कि सबसे बड़ी विशेषता है मरने के बाद यह मातम नहीं मनाते हैं। किन्नर समाज में मान्यता है कि मरने के बाद इस नर्क रूपी जीवन से छुटकारा मिल जाता है। इसीलिए मरने के बाद हम खुशी मानते हैं । ये लोग स्वंय के पैसो से कई दान कार्य भी करवाते है ताकि पुन: उन्हें इस रूप में पैदा ना होना पड़े।
Eunuch don't grief on the death of their belongings. They believe that they get rid of hell kind of life that's why they celebrate their death. They also do many charity so that they do not get this life again.

● ऐसी मान्यता है कि किन्नर जिसे भी दुआ देते हैं वह दुआ कबूल हो जाती है।
It is believed that their wish get granted.

● देश में हर साल किन्नरों की संख्या में 40-50 हजार की वृद्धि होती है। देशभर के तमाम किन्नरों में से 90 फीसद ऐसे होते हैं जिन्हें बनाया जाता है। समय के साथ किन्नर बिरादरी में वो लोग भी शामिल होते चले गए जो जनाना भाव रखते हैं।
40-50 thousand eunuchs are increasing every year and 90% of them are forced to become and sometime people with feminism behavior also join eunuch community.

Tags: information about hijadas in hindi, information about eunuchs in hindi, reality about eunuchs in hindi, what are hijada community, kinnar kaise paida hote hain, kinnar kaun hote hain, history of eunuchs in hindi, science of eunuchs in hindi, hijaro ke marne ke baad kya hota hai.
Latest
Previous
Next Post »

1 comments:

Write comments