How Can We See Stars Far From Light Years In hindi

How Can We See Stars Far From Light Years प्रकाशवर्ष की दूरी से हम सितारे कैसे देख पाते हैं

How Can We See Stars Far From Light Years in Hindi

प्रकाशवर्ष की दूरी से हम सितारे कैसे देख पाते हैं

लालटेन अब 70 के दशक की बात है। बहुत लोगों की पढाई लिखाई बचपन में बिना बिजली के ही हुई है। वे लालटेन जलाकर अपनी पढाई करते थे। उस समय kerosene तेल की भारत में बहुत बड़ी समस्या थी। जिन लोगों को kerosene oil नहीं मिल पाता था वे या तो नीम के तेल का दिया जला कर पढ़ते थे और अगर वो भी नहीं मिला तो साइकिल के पुराने tyre को काट के पेंड से लटका के पढ़ते थे। खैर, यह कहानी बहुत पुरानी है। आज के युग में पले बढे लोगों को शायद अंदाजा ही नहीं हो की बिजली के बिना जीवन कैसा होता है।
गाँव में लालटेन अक्सर घर के बाहर टांग दी जाती थी। अगर पढ़ना है तो उसी के नीचे बैठकर पढ़ना पड़ता था। बाकी घर के बाहर उजाला भी इसी की वजह से होता था। अब हम अपने topic पर आते हैं।

हजारों प्रकाश वर्ष दूर होने के बावजूद भी तारे हमको दिखाई कैसे देते हैं?


इस प्रश्न का उत्तर देने के लिए आपको तारे के बारे में कुछ सटीक information चाहिए होगी। जैसे कि कुछ सवाल और उनके जवाब मैं नीचे लिख रहा हूँ।


How Can We See Stars Far From Light Years प्रकाशवर्ष की दूरी से हम सितारे कैसे देख पाते हैं

1. तारे कैसे बनते हैं:


Stars are born when large gas nabule clouds collapse under gravity. They form hot cores that gather more and more gas and dust until a protostar is formed.  If only a small amount of gas is around, then only a small star will form;  if a large amount of gas is present, then a massive star will form.

जब बहुत सारी अलग अलग gas और धूल गुरुत्वाकर्षण बल के कारण एक ही जगह पर जमा हो जाती है और अत्यधिक गर्मी एवं ऊर्जा उत्पन्न होती है और एक proto star बनता है proto-star एक तारे का शुरुआती समय है। gas और धूल के मिश्रण को हम scientific language में nebula कहते हैं। अगर कम गैस है तो छोटा तारा बनेगा और अगर अधिक गैस है तो बड़ा तारा बनेगा मतलब कि तारे का आकार उस के अंदर की गैस पर depend करता है अगर गैस कम है तो यह पूरी तरह star नहीं बन पाएगा इसका सबसे अच्छा example है हमारा बृहस्पति यानी jupiter इसे हम failed sun भी कहते हैं। इस तरह एक तारे का जन्म होता है।


how does a start formed in hindi, what is protostar in hindi and english, what is colour of star indicates in hindi and english, taare kaise bante hain, tare dur se kaise dikhai dete hain, tare ka rang alag kyun hota hai, surya kis tarah ka star hai, tare kyun timtamate hain.

चलिए तारे के बारे में और अधिक समझाने के लिए हम आपको बचपन के दिनों में ले चलते हैं। मैने आपको लालटेन वाली कहानी इस topic को समझाने के लिए ही बताई थी।

जब भी लालटेन घर पर जलती थी तो ठीक इसके नीचे हम पढ़ सकते थे। थोड़ी दूर और गए तो सिर्फ अपना हाथ देख सकते थे। और अगर इसी लालटेन को गाँव से बाहर से देखें तो टिमटिमाती हुई दिखती थी। समझाने के लिए यह कहानी जरूरी थी। मान लीजिये की जब हम लालटेन के पास बैठ के पढ़ रहे हों तो यह बिलकुल सूर्य जैसा है जो की एक तारा है। जब हम थोड़ा दूर जाते हैं तो यह पास वाले तारों जैसा है और जब गाँव से बाहर से देखते हैं तो यह टिमटिमाते तारों जैसा है।


हमारे सबसे पास के तारे कौन से हैं :


अगर आप किसी ऐसी जगह से देखें जहां बिजली के प्रकाश का प्रदूषण नहीं है तो आपको रात में जब बादल नहीं हों तो दो तारे दिखेंगें। इनको alpha century कहते हैं और ये दो तारों का जोड़ा है और पृथ्वी के सबसे नज़दीक का तारा है। इनको alpha century A और B कहते हैं और ये पृथ्वी से लगभग 4.3 प्रकाश वर्ष की दूरी पर हैं। लेकिन वहां दो नहीं तीन तारे हैं। तीसरे का नाम proxima century है। इसको लाल circle में देखा जा सकता है।



how does a start formed in hindi, what is protostar in hindi and english, what is colour of star indicates in hindi and english, taare kaise bante hain, tare dur se kaise dikhai dete hain, tare ka rang alag kyun hota hai, surya kis tarah ka star hai, tare kyun timtamate hain.

अलग अलग तारे अलग तरीके से क्यों दिखते हैं :


इस प्रश्न का उत्तर देने से पहले इसको समझाना बहुत जरुरी है। तारा कितनी तेजी से जल रहा है और कितनी अधिक मात्रा में nuclear fusion हो रहा है, तारा हमसे कितनी दूर है, तारा कितना बड़ा है। अब ज़रा एक नजर ब्रम्हांड के तारों के आकर पर डालिये इसमें हमारा सूर्य सिर्फ एक pixel का है और बड़े तारों का अकार देखिये। आप कल्पना भी नहीं कर सकते की यह कितना बड़ा है अगर हमारी पृथ्वी एक point जैसी है तो सूर्य इतना बड़ा।

तारों का रंग :


हमारा ब्रम्हांड बहुत ही विचित्र है। इसमें तरह तरह के तारे हैं। कुछ लाल, कुछ पीले, कुछ नीले तो कुछ नारंगी। इसका रंग इसके अंदर के nuclear fusion पर निर्भर करता है। हमारा सूर्य पीले रंग का है और लाल रंग के अधिकतर तारे हमको दिखाई ही नहीं देते। यह बिल्कुल वैसा ही है जैसे कि कोयले का रंग लाल, आग का रंग अधिकतर पीला और LPG Gas के जलने के रंग नीला क्योंकि इन सबका temperature different है।


तारों की दूरी :


क्या आपको पता है कि सिर्फ हमारी आकाशगंगा में 200 खरब तारे हैं। अगर सब तारे हमको दिखाई पड़ते तो हमको आकाश में तारों के आलावा और कुछ नहीं दिखता लेकिन सब तारे हमसे बहुत दूर हैं। प्रकाश को एक सिरे से दूसरे सिरे पर जाने में 2 लाख साल लगते हैं। हम लोग इसके बाहरी हिस्से में हैं।



how does a start formed in hindi, what is protostar in hindi and english, what is colour of star indicates in hindi and english, taare kaise bante hain, tare dur se kaise dikhai dete hain, tare ka rang alag kyun hota hai, surya kis tarah ka star hai, tare kyun timtamate hain.

तारें क्यों दिखाई देते हैं :


अब हम आपका उत्तर दे सकते हैं। तारे हमसे दूर हैं लेकिन उनके दिखाई देने के बहुत कारण हैं। यह इन सब पर निर्भर करता है। उनका आकर क्या है, वह पृथ्वी से कितनी दूर हैं, वह किस रंग के हैं और उनके अंदर nuclear fusion कितनी तेजी से हो रहा है।

इसके बावजूद हम सिर्फ कुछ तारे देख पाते हैं। इसका पता हमको तब लगा जब Hubble telescope से आकाश के खाली भाग पर focus किया गया तो हमको यह सब दिखा। आपको विश्वास नहीं होगा लेकिन यह सच में आकाश का खाली भाग है और इसको ultra deep field कहते हैं। इसमें सब के सब हमारी आकाशगंगा जैसी आकाशगंगाएं हैं।


हम लोग ब्रम्हांड का 0.000000001 प्रतिशत भी नहीं देखते हैं। ब्रम्हांड हमारी और आपकी कल्पना से भी परे है।


Tags: how does a start formed in hindi, what is protostar in hindi and english, what is colour of star indicates in hindi and english, taare kaise bante hain, tare dur se kaise dikhai dete hain, tare ka rang alag kyun hota hai, surya kis tarah ka star hai, tare kyun timtamate hain.

लेख अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें, जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास भी कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख को आपके नाम के साथ Bhannaat.com पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप Wordparking@Gmail.Com पर भेजें, साथ ही Twitter पर फॉलो करें।

                                            धन्यवाद

Previous
Next Post »