Never Make False Promise Story In Hindi

Never Make False Promise Story In Hindi
झूठा वादा न करे कथा

एक ठंडी रात में अपने फर के दरवाजे पर पहुंचने ही वाला था कि उसने घर के पास बैठे एक बूढ़े गरीब आदमी को देखा। उसने उससे पूछा, "क्या तुम्हें बाहर ठंड नहीं लग रही है, और कोई कम्बल या कोई मोटा कपडा भी नहीं पहन रखा है?"

बूढ़े ने जवाब दिया, "मेरे पास नहीं है इसलिए मेरा शरीर इस माहौल में ढल चुका है अब मुझे इसकी आदत हो गयी है।"

उस अमीर व्यक्ति ने जवाब दिया, "रुको। मैं अपने घर जाकर तुम्हे कोई कंबल ला कर देता हूँ जिस से तुम सर्दी से बच जाओगे।" वह गरीब आदमी उसकी बात बहुत खुश हुआ और उसने कहा कि वह उसका इंतजार करेगा।

वह अमीर व्यक्ति अपने घर गया, वहां दूसरे कामों में व्यस्त हो गया और बाहर बैठे गरीब आदमी को भूल गया।

सुबह उस अमीर व्यक्ति को उस गरीब बूढ़े व्यक्ति की याद आई और वह उसे देखने के लिए बाहर निकला लेकिन उसने पाया की ठंड के कारण उस बूढ़े व्यक्ति की मृत्यु हो चुकी थी, लेकिन उसने एक कागज छोड़ा था जिस पर लिखा हुआ था, "जब मेरे पास कोई गर्म कपड़े या कम्बल नहीं थे, तो मेरे पास ठण्ड से लड़ने की शक्ति थी क्योकि मेरे पास इसका कोई विकल्प नहीं था और मुझे इसकी आदत हो चुकी थी लेकिन जब तुमने मुझे मेरी मदद करने का वादा किया, तो मैं तुम्हारे वादे से बंध गया और इस वजह से मेरी ठण्ड से लड़ने की शक्ति ख़त्म हो गयी।

MORAL: अगर आप अपना वादा नहीं निभा सकते तो वादा न करना ही उत्तम नीति है हो सकता है कि आप के लिए इस वादे का कुछ भी महत्व ना हो, लेकिन यह किसी और के लिए सब कुछ हो सकता है।
If your can't keep your promise than better not to make it. It may not anything to you but may be everything to someone.

Tags: अपना वादा जरूर निभाएं लोककथा एवं कहानी, वादे का महत्व कहानी, ज़ुबान का रस कहानी, किस्सा वादे का, importance of promise in Hindi, keep up too your words in Hindi, keep promise in Hindi story, story on promise in Hindi

Previous
Next Post »